PM Kisan Samriddhi Kendra: किसान समृद्धि केंद्र से खरीदें भारत ब्रांड खाद

PM Kisan Samriddhi Kendra Kya Hai | पीएम किसान समृद्धि केंद्र पर किसानों को क्या सुविधाएं मिलेंगी | प्रधानमंत्री किसान समृद्धि केंद्र कैसे खोलें, आवेदन प्रक्रिया जाने

PM Kisan Samriddhi Kendra देश के किसानों को बीज, खाद एवं मिट्टी की जांच सुविधा उपलब्ध कराने के लिए हमारे देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के द्वारा नई दिल्ली में आयोजित किसान सम्मान सम्मेलन कार्यक्रम में देश की खुदरा उर्वरक दुकानों को पीएम किसान समृद्धि केंद्र में बदलने की घोषणा की है। खुदरा उर्वरक दुकानों को पीएम किसान समृद्धि केंद्र के रूप में चरणबद्ध तरीके से बदला जाएगा। आज हम आपको इस लेख के माध्यम से पीएम किसान समृद्धि केंद्र से संबंधित महत्वपूर्ण जानकारी उपलब्ध कराएंगे। जैसे PM Kisan Samriddhi Kendra क्या है, इसके उद्देश्य, लाभ, विशेषताएं, केंद्रों पर मिलने वाली सुविधा आदि अगर आप एक किसान हैं और बीज, खाद व मिट्टी की जांच जैसी सुविधा प्राप्त करना चाहते हैं तो आपको यह लेख विस्तार पूर्वक अंत तक पढ़ना होगा।

PM Kisan Samriddhi Kendra

PM Kisan Samriddhi Kendra (PMKSC) 2023

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा नई दिल्ली में आयोजित किसान सम्मान सम्मेलन के उद्घाटन में खाद, बीज से लेकर कीटनाशक और मिट्टी की जांच जैसी सुविधाएं उपलब्ध कराने के लिए प्रधानमंत्री ने रसायन और उर्वरक मंत्रालय के तहत 600 प्रधानमंत्री किसान समृद्धि केंद्रों का भी उद्घाटन किया है। देश में खुदरा खाद की दुकानों को चरणबद्ध तरीके से PM Kisan Samriddhi Kendra (PMKSC) में बदला जाएगा। जिसके माध्यम से किसानों की विभिन्न प्रकार की जरूरतों को पूरा किया जा सकेगा। और कृषि सामग्री जैसे- बीज, उर्वरक, उपकरण, मिट्टी के लिए परीक्षण सुविधाएं प्रदान करेंगे।

इन केंद्रों के माध्यम से किसानों के बीच जागरूकता पैदा होगी। डॉ मनसुख मांडवीया ने कहा है कि कृषि में अनुसंधान को भी प्रोत्साहित किया गया है। जिसके कारण भारत  विश्व का पहला देश बन गया है। जिसने यूरिया का व्यवसायिक उत्पादन शुरू कर दिया है और कहा कि 600 किसान समृद्धि केंद्र किसानों को अनेक प्रकार से मजबूत करेंगे।

किसान सम्मान निधि लिस्ट 

पीएम किसान समृद्धि केंद्र Key Highlights

लेख का नामPM Kisan Samriddhi Kendra
घोषणा की गईप्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा
लाभार्थीदेश के किसान
उद्देश्यखाद, बीज से लेकर कीटनाशक और मिट्टी की जांच जैसी सुविधाएं किसानों को एक ही छत के नीचे उपलब्ध कराना
मंत्रालयरसायन और उर्वरक मंत्रालय
उद्घाटन किया600 प्रधानमंत्री किसान समृद्धि केंद्रों का
केंद्र के रूप में बदला जाएगादेश की 3.3 लाख खुदरा उर्वरक दुकानों को
साल2023

PM Kisan Samriddhi Kendra में बदला जाएगा 3.3 लाख खुदरा उर्वरक दुकानों को

पीएम किसान समृद्धि केंद्र के रूप में देश की 3.3 लाख खुदरा उर्वरक दुकानों को बदला जाएगा। इन केंद्रों पर बीच, खाद्य, मिट्टी की जांच के लिए टेस्टिंग की सुविधा किसान को एक ही छत के नीचे उपलब्ध होगी। किसानों को इन केंद्रों के माध्यम से खेती से जुड़ी चीजों को लेकर हर तरह से जागरूक किया जाएगा। तथा सभी प्रकार की योजनाओं के बारे में बताया जाएगा। केंद्र सरकार की इस योजना को मॉडल शॉप के रूप में कम से कम एक एक रिटेल दुकान को विकसित किया जाएगा। जिसके अंतर्गत लगभग 330499 रिटेल फर्टिलाइजर दुकानों को पीएम किसान समृद्धि केंद्र में बदला जाएगा।

PM Kisan Beneficiary List

PM Kisan Samriddhi Kendra का उद्देश्य

प्रधानमंत्री द्वारा देश में खुदरा खाद की दुकानों को चरणबद्ध तरीके से पीएम किसान समृद्धि केंद्रों में बदलने का मुख्य उद्देश्य खाद, बीज से लेकर कीटनाशक और मिट्टी की जांच जैसी सुविधाएं किसानों को एक ही छत के नीचे उपलब्ध कराना है। प्रधानमंत्री ने रसायन और उर्वरक मंत्रालय के तहत 600 प्रधानमंत्री किसान समृद्धि केंद्र (PMKSC) का उद्घाटन किया है। जिसके माध्यम से किसानों की विभिन्न प्रकार की जरूरतों को पूरा किया जा सकेगा। किसानों की कृषि उपज बढ़ाने में सहायता करने के लिए इन केंद्रों पर कृषि विज्ञान केंद्र एवं एग्रीकल्चर यूनिवर्सिटी के विशेषज्ञ सलाहकारों को किसानों को परामर्श देने के लिए रखा जाएगा। इन केंद्रों पर हर महीने या 15 दिन में एक बार यह कार्यक्रम आयोजित किया जाएगा। पीएम किसान समृद्धि केंद्र किसान के साथ नाता जोड़ने वाला और उनकी हर आवश्यकता में मदद करने वाला केंद्र होगा।

पीएम किसान समृद्धि केंद्र पर मिलेगी ये सुविधाएं

  • देश के किसान भारत ब्रांड का फ़र्टिलाइज़र किसान समृद्धि केंद्र से किसान वन नेशन वन फ़र्टिलाइज़र प्रोग्राम के तहत खरीद सकेंगे।
  • पीएम किसान समृद्धि केंद्रों पर किसानों को जागरूक किया जाएगा और किसानों को सरकारी योजनाओं की जानकारी दी जाएगी।
  • इन पीएम किसान समृद्धि केंद्र को कृषि मंडियों के आसपास विकसित किए जाएंगे ताकि किसान आसानी से इन केंद्रों पर पहुंच सके।
  • किसानों की कृषि उपज बढ़ाने में सहायता करने के लिए इन केंद्रों पर कृषि विज्ञान केंद्र एवं एग्रीकल्चर यूनिवर्सिटी के विशेष किसानों को सलाह और परामर्श देंगे।
  • किसान समृद्धि केंद्रों पर हर महीने या 15 दिन में एक बार यह कार्यक्रम आयोजित किया जाया करेगा।
  • पीएम किसान समृद्धि केंद्र सिर्फ किसानों के लिए उर्वरक खरीद और बिक्री का केंद्र नहीं है बल्कि यह एक संपूर्ण रूप से किसान के साथ घनिष्ठ नाता जोड़ने वाला और उनकी हर आवश्यकता में मदद करने वाला केंद्र है।
  • इन केंद्रों पर सिर्फ खाद ही नहीं बल्कि बीज, उपकरण, मिट्टी की टेस्टिंग हर प्रकार की जानकारी जो भी किसान को चाहिए होगी। वह इन केंद्रों पर एक ही छत के नीचे प्राप्त कर सकेंगे।

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना

PM Kisan Samriddhi Kendra 2023 के लाभ एवं विशेषताएं

  • खाद बीज से लेकर कीटनाशक और मिट्टी की जांच जैसी सुविधाएं उपलब्ध कराने के लिए प्रधानमंत्री ने रसायन और उर्वरक मंत्रालय के तहत 600 प्रधानमंत्री किसान समृद्धि केंद्रों का उद्घाटन किया है।
  • देश में खुदरा खाद की दुकानों को चरणबद्ध तरीके से पीएम किसान समृद्धि केंद्रों में बदला जाएगा।
  • जिसके माध्यम से किसानों की विभिन्न प्रकार की जरूरतों को पूरा किया जा सकेगा।
  • इन केंद्रों पर कृषि सामग्री जैसे- बीज, उर्वरक, उपकरण, मिट्टी के लिए परीक्षण सुविधाएं प्रदान होगी।
  • पीएम किसान समृद्धि केंद्रों के माध्यम से किसानों के बीच जागरूकता पैदा होगी।
  • कृषि में अनुसंधान को भी प्रोत्साहित किया जा सकेगा।
  • जिसके कारण भारत विश्व का पहला देश बन गया है। जिसने यूरिया का व्यवसायिक उत्पादन शुरू कर दिया है।
  • 600 किसान समृद्धि केंद्र किसानों को अनेक प्रकार से मजबूत करेंगे।
  • लगभग 330499 रिटेल फर्टिलाइजर दुकानों को पीएम किसान समृद्धि केंद्र में बदला जाएगा।
  • किसान समृद्धि केंद्रों के माध्यम से देश के किसान उर्वरकों कीटनाशकों की खरीदारी करने के साथ कई तरह के फॉर्म इक्विपमेंट मशीनरी आदि भी किराए पर ले सकेंगे।
  • इन केंद्रों से किसानों को कृषि से संबंधित परामर्श के साथ मिट्टी की जांच आदि की सुविधाएं भी प्राप्त होगी।
  • किसान समृद्धि केंद्रों में सरकारी योजनाओं के प्रति किसानों को जागरूक भी किया जाएगा।
  • इस योजना के माध्यम से किसानों की फसलों में वृद्धि होगी।
  • एक ही छत के नीचे उर्वरक प्राप्त करने से किसानों के समय और पैसे दोनों की बचत होगी।

Leave a Comment