कीट रोग नियंत्रण योजना को मंजूरी मिली, आवेदन प्रक्रिया एवं जरूरी जानकारी प्राप्त करें

उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा किसानों की फसलों को क्षति होने से बचाने के लिए तथा राज्य के किसानों की आय में वृद्धि करने के लिए कीट रोग नियंत्रण योजना को लागू किया गया है। Keet Rog Niyantran Yojana के तहत कीटनाशक और फसलों पर कीटनाशक का छिड़काव करने वाली मशीनों पर सरकार द्वारा अनुदान प्रदान किया जाएगा। ताकि फसलों को नुकसान होने से बचाया जा सके 6 सितंबर मंगलवार के दिन मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी की मंत्रिमंडल बैठक में किसानों की फसलों को नुकसान से बचाने के लिए इस योजना के प्रस्ताव को 5 सालों के लिए और आगे बढ़ाने की मंजूरी प्रदान की है। अगर आप भी एक किसान है और अपनी फसलों को खराब होने से बचाना चाहते हैं तो आप Keet Rog Niyantran Yojana 2023 का लाभ पाने के लिए आवेदन कर सकते हैं। इसके लिए आपको यह लेख अंत तक पढ़ना होगा। क्योंकि आज हम आपको इस लेख के माध्यम से उत्तर प्रदेश कीट रोग नियंत्रण योजना से संबंधित सभी महत्वपूर्ण जानकारी उपलब्ध कराएंगे।

Keet Rog Niyantran Yojana

UP Keet Rog Niyantran Yojana 2023

कीट रोग नियंत्रण योजना को उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा शुरू किया गया है। राज्य के किसानों को कीटनाशक फसलों पर कीटनाशक का छिड़काव करने वाली मशीनों पर अनुदान प्रदान करने के लिए Keet Rog Niyantran Yojana को शुरू किया गया था। Keet Rog Niyantran Yojana 5 वर्ष के लिए उत्तर प्रदेश में जारी की गई थी। लेकिन अब इस योजना को 5 सालों के लिए और बढ़ा दिया गया है यानी वर्ष 2022-23 से 2026-27 तक और आगे संचालित करने के लिए मंजूरी दी गई है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी की अध्यक्षता में 6 सितंबर 2022 को हुई मंत्रिमंडल की बैठक में विभिन्न परिस्थितिकी संसाधनों के माध्यम से फसलों को नुकसान से बचाने के लिए इस योजना के प्रस्ताव को आगे बढ़ाने की मंजूरी प्रदान की है। अब Uttar Pradesh Keet Rog Niyantran Yojana के माध्यम से किसानों को सालाना फसलों में खरपतवार से होने वाली 15 से 20% क्षति, फसल रोगों से 26% क्षति एवं कीटों से 20% होने वाले नुकसान से बचाया जा सकेगा।

UP Kisan Karj Rahat List

उत्तर प्रदेश कीट रोग नियंत्रण योजना Key Highlight

योजना का नामकीट रोग नियंत्रण योजना
शुरू की गईउत्तर प्रदेश सरकार द्वारा
उद्देश्यकीटनाशकों और कीटनाशक छिड़काव करने वाली मशीनों पर किसानों को अनुदान प्रदान करना
लाभार्थीउत्तर प्रदेश के किसान
योजना पर खर्च किए जाएंगे19257.75 करोड़ रुपए (5 वर्षों में)
साल2023
आवेदन प्रक्रियाऑफलाइन
ऑफिशल वेबसाइटhttp://upagriculture.com/

5 वर्षों में Keet Rog Niyantran Yojana पर 19257.75 करोड़ रुपए खर्च करेगी यूपी सरकार

कीट रोग नियंत्रण योजना के संचालन के लिए 5 वर्ष तक यानी वर्ष 2022-23 से लेकर 2026-27 तक 19257.75 करोड़ रुपए यूपी सरकार द्वारा खर्च किए जाएंगे। जिसमें से मौजूदा वित्तीय वर्ष 2022-23 में 34.17 करोड़ रुपए उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा खर्च किए जाएंगे। राज्य के किसानों को वर्ष 2017-18 से लेकर 2021-22 तक प्रदेश सरकार द्वारा इस योजना के माध्यम से किसानों को विभिन्न कार्य मदो में लाभान्वित किया गया था। अब फिर से राज्य के लाखों किसानों को कीट रोग नियंत्रण योजना के माध्यम से अनेक कार्य मदो पर लाभ प्राप्त होगा। जिससे किसानों की आय में वृद्धि होगी और किसानों का भविष्य आर्थिक रूप से मजबूत होगा।

यूपी पंचामृत योजना क्या है

जैविका दवाइयों पर मिलेगा किसानों को 75% अनुदान

कीट रोग नियंत्रण योजना के तहत किसानों को कीटनाशक एवं कृषि उपकरण सरकार द्वारा उपलब्ध कराए जाएंगे। इस योजना के माध्यम से किसानों को खाद उत्पादन के लिए बायो पेस्टिसाइड्स तथा बायोएजेंट्स पर प्रदेश सरकार द्वारा 75% अनुदान पर उपलब्ध कराए जाएंगे। किसानों की फसलों में खरपतवार, कीट, रोग के नियंत्रण के लिए इस समय राज्य में एकीकृत नाश जीव प्रबंध प्रणाली को बढ़ावा दिया जा रहा है। राज्य में कृषि विभाग द्वारा 9 आईपी प्रयोगशालाओं की स्थापना की गई है। इन प्रयोगशालाओं में बायोएजेंट्स जैसे कि ट्राइकोग्रामा कार्ड और बायो पेस्टिसाइड्स जैसे कि एन.पी.वी.,  ट्राइकोडरमा एवं ब्यूवेरिया वैसियाना का उत्पादन किया जा रहा है। इससे किसानों की फसलों को नुकसान होने से बचाया जा सकेगा।

50% अनुदान पर दी जाएगी रसायनिक दवाई और स्प्रेयर

उत्तर प्रदेश के लघु एवं सीमांत किसानों को इस योजना के तहत खरपतवार, कीट, रोग के नियंत्रण के लिए कृषि रक्षा रसायनों को 50% अनुदान पर प्रदान किया जाएगा। इसके लिए राज्य सरकार द्वारा वित्तीय वर्ष के लिए किसानों को 1.95 लाख हेक्टेयर भूमि क्षेत्रफल के लिए अनुदान पर कृषि रक्षा रसायन प्रदान करेगी। इसी के साथ इन रसायनों को फसलों पर लगने के लिए छिड़कने के लिए पावर स्प्रेयर एवं नैपसेक स्प्रेयर कृषि यंत्रों पर 50% अनुदान दिया जाएगा। वित्तीय वर्ष 2022-23 में सरकार द्वारा 6000 कृषि रक्षा यंत्र उपलब्ध कराए जाएंगे। इन सबके अलावा सीमांत किसानों को अनाज सुरक्षित रखने के लिए 2 वर्षों में 3 और 5 क्विंटल के भंडार साधन भी 50 फ़ीसदी अनुदान पर उपलब्ध कराए जाएंगे। उत्तर प्रदेश के किसानों को कीट रोग नियंत्रण योजना के माध्यम से 2022 से लेकर 2027 तक 41 लाख 42 हजार किसानों को सीधा लाभ मिलेगा। किसानों की आमदनी में भी वृद्धि होगी।

Keet Rog Niyantran Yojana का उद्देश्य

उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा कीट रोग नियंत्रण योजना को लागू करने का मुख्य उद्देश्य किसानों को फसलों के खराब होने वाली क्षति से बचाने के लिए कीटनाशक और फसलों पर कीटनाशक का छिड़काव करने वाली मशीनों पर अनुदान प्रदान करना है ताकि किसान अपनी फसलों को खराब होने से बचा सके। कीट रोग नियंत्रण योजना के माध्यम से उत्तर प्रदेश के किसानों की फसलों में सालाना खरपतवार से होने वाली 15 से 20% क्षति, फसल रोगों से 26% क्षति एवं कीटों से 20% होने वाले नुकसान से बचाया जा सकेगा। जिससे किसानों की आय में वृद्धि होगी।

UP Ganna Parchi Calendar Online

उत्तर प्रदेश कीट रोग नियंत्रण के लाभ एवं विशेषताएं

  • उत्तर प्रदेश के किसानों को कीटनाशक फसलों पर कीटनाशक का छिड़काव करने वाली मशीनों पर अनुदान प्रदान करने के लिए कीट रोग नियंत्रण योजना को शुरू किया गया था।
  • Keet Rog Niyantran Yojana वित्तीय वर्ष 2017-18 से 2021-22 तक के लिए उत्तर प्रदेश में जारी की गई थी।
  • मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी की अध्यक्षता में 6 सितंबर 2022 को हुई मंत्रिमंडल की बैठक में विभिन्न परिस्थितिकी संसाधनों के माध्यम से फसलों को नुकसान से बचाने के लिए इस योजना के प्रस्ताव को आगे बढ़ाने की मंजूरी प्रदान की है।
  • कीट रोग नियंत्रण योजना के संचालन के लिए 5 वर्ष तक यानी वर्ष 2022-23 से लेकर 2026-27 तक 19257.75 करोड़ रुपए यूपी सरकार द्वारा खर्च किए जाएंगे।
  • मौजूदा वित्तीय वर्ष 2022-23 में 34.17 करोड़ रुपए उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा खर्च किए जाएंगे।
  • उत्तर प्रदेश के लघु एवं सीमांत किसानों को इस योजना के तहत खरपतवार, कीट, रोग के नियंत्रण के लिए कृषि रक्षा रसायनों को 50% अनुदान पर प्रदान किया जाएगा।
  • राज्य के लाखों किसानों को कीट रोग नियंत्रण योजना के माध्यम से अनेक कार्य मदो पर लाभ प्राप्त होगा।
  • किसानों को कीट रोग नियंत्रण योजना के माध्यम से 2022 से लेकर 2027 तक 41 लाख 42 हजार किसानों को सीधा लाभ मिलेगा।
  • कीट रोग नियंत्रण योजना के माध्यम से किसानों की आय में वृद्धि होगी और किसानों का भविष्य आर्थिक रूप से मजबूत होगा।

Keet Rog Niyantran Yojana के तहत पात्रता

  • कीट रोग नियंत्रण योजना के लिए आवेदक को उत्तर प्रदेश का मूल निवासी होना चाहिए।
  • इस योजना के तहत केवल किसान ही आवेदन करने के पात्र होंगे।

UP Gehu Kharid Registration

कीट रोग नियंत्रण के लिए आवश्यक दस्तावेज

  • आधार कार्ड
  • निवास प्रमाण पत्र
  • आय प्रमाण पत्र
  • जमीन से जुड़े कागजात
  • पासपोर्ट साइज फोटो
  • मोबाइल नंबर
  • ईमेल आईडी

Uttar Pradesh Keet Rog Niyantran Yojana के तहत आवेदन प्रक्रिया

  • सबसे पहले आपको जिले के कृषि विभाग कार्यालय में जाना होगा।
  • कृषि विभाग कार्यालय से आपको संबंधित अधिकारी से कीट रोग नियंत्रण योजना का आवेदन पत्र लेना होगा।
  • अब आपको आवेदन पत्र में पूछी गई सभी महत्वपूर्ण जानकारी को ध्यानपूर्वक पढ़कर दर्ज करना होगा।
  • सभी जानकारी दर्ज करने के बाद आपको आवेदन पत्र के साथ सभी आवश्यक दस्तावेजों को अटैच करना होगा।
  • इसके बाद आपको यह आवेदन पत्र कृषि विभाग में ही जमा कर देना होगा जहां से आप ने इस आवेदन पत्र को प्राप्त किया था।
  • इस प्रकार आपकी रोग नियंत्रण योजना के तहत आवेदन कर सकते हैं।

Leave a Comment