मेरा पानी मेरी विरासत योजना 2023: ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन, Mera Pani Meri Virasat

Mera Pani Meri Virasat Yojana Online Registration | हरियाणा मेरा पानी मेरी विरासत योजना ऑनलाइन आवेदन 2023, लाभ तथा पात्रता | Mera Pani Meri Virasat Yojana Status & Last Date

Mera Pani Meri Virasat Yojana 2023 को हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल खट्टर जी के माध्यम से आरंभ किया गया है इस योजना के अंतर्गत हरियाणा के डार्क जोन में शामिल क्षेत्रों में धान की खेती छोड़ने तथा धान के स्थान पर अन्य विकल्पित फसलों की बुआई करने वाले किसानों को 7000 रुपये प्रति एकड़ की प्रोत्साहन धनराशि राज्य सरकार के माध्यम से विवरण की जाएगी तो दोस्तों आज हम आपको अपने इस आर्टिकल के द्वारा से मेरा पानी मेरी विरासत योजना 2023 से जुड़ी सभी जानकारी प्रदान करेंगे जैसे कि इसकी हाइलाइट्स, उद्देश्य, लाभ, पात्रता, आवश्यक दस्तावेज तथा आवेदन प्रक्रिया आदि तो अगर आप यह योजना से संपूर्ण जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं तो आपको हमारे इस आर्टिकल को अंत तक जरूर पढ़ना होगा।

Mera Pani Meri Virasat

Table of Contents

Mera Pani Meri Virasat Yojana 2023

मेरा पानी मेरी विरासत योजना के अंतर्गत प्रथम चरण में राज्य के 19 ब्लॉक शामिल किए गए हैं जिनमें भू-जल की गहराई 40 मीटर से अधिक है इनमें से भी 8 ब्लॉक में धान की रोपाई ज्यादा है जिनमें कैथल के सीवन तथा गुहला, सिरसा, फतेहाबाद में रतिया और कुरुक्षेत्र में शाहाबाद, इस्माईलाबाद, पिपली तथा बाबैन उपस्थित है इसके अलावा इस Haryana Mera Pani Meri Virasat Scheme के तहत वह क्षेत्र भी किए गए हैं जहां 50 हॉर्स पावर से ज्यादा क्षमता वाले ट्यूबवेल का उपयोग किया जा रहा है हरियाणा राज्य के किसान धान के स्थान पर अन्य वैकल्पिक फसले जैसे मक्का, अरहर, मूंग, उड़द, तिल, कपास, सब्जी की खेती कर सकते हैं हरियाणा राज्य के मुख्यमंत्री श्री माननीय मनोहर लाल खट्टर जी का कहना है कि जिन ब्लॉक में पानी 35 मीटर से नीचे है वहां पंचायती जमीन पर धान की खेती की अनुमति नहीं मिलेगी।

हरियाणा चारा-बिजाई योजना

मेरा पानी मेरी विरासत योजना हाइलाइट्स

योजना का नामMera Pani Meri Virasat Yojana
किसके माध्यम से आरंभ की गईमुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर के माध्यम
उद्देश्यकिसानों को प्रोत्साहन धनराशि प्रदान करना
लाभार्थीराज्य के किसान
विभागकृषि तथा किसान कल्याण विभाग
आवेदन प्रक्रियाऑनलाइन मोड
श्रेणीराज्य सरकारी योजनाएं
प्रोत्साहन राशि7000 रुपये प्रति एकड़
ऑफिशल वेबसाइटMeri Fasal Mera Byora Portal

800 किसानों ने कराया Mera Pani Meri Virasat के अंतर्गत आवेदन

दोस्तों जैसा कि आप सभी जानते हैं कि मेरा पानी मेरी विरासत योजना को धान की खेती को छोड़कर दूसरी फसलों को अपनाने के लक्ष्य से शुभारंभ किया गया है क्योंकि धान की फसल में पानी का अधिक इस्तेमाल होता है इस योजना के अंतर्गत अब तक 800 आवेदन प्राप्त हो चुके हैं इसका मतलब यह है कि 900 प्रति एकड़ जमीन पर इस साल धान की फसल नहीं लगाई जाएगी धान को छोड़कर मक्का, चारा, सब्जियां, कपास की खेती की जाएगी इस योजना के तहत पंजीकरण करवाने के बाद किसानों को 7000 रुपये की प्रोत्साहन राशि प्रति एकड़ के हिसाब से भी प्रदान की जाएगी Mera Pani Meri Virasat Yojana के द्वारा से करीब करीब 40 फीसद पानी की बचत होगी।

पिछले साल भी 20000 acre में सीधी बिजाई किसानों ने की थी प्रदेश के गुहाला एवं पनडोरी ब्लॉक में भूजल स्तर बहुत तेजी से गिर रहा है अगर इन इलाकों में 15 जून से पहले किसान खेतों में धान की रोपाई करते हैं तो उनके ऊपर कृषि विभाग की तरफ से कार्यवाही की जाए।

किसान सम्मान निधि योजना 

Mera Pani Meri Virasat योजना के अंतर्गत शामिल किए गए क्षेत्र

  • रतिया
  • सीवन
  • गुहला
  • पीपली
  • शाहजहानाबाद
  • बाबैन
  • इस्माईलाबाद
  • सिरसा आदि

मेरा पानी मेरी विरासत योजना के अंतर्गत प्रोत्साहन

  • इस योजना के द्वारा से अगर किसान के माध्यम से खेती की जमीन के 50 फीसद या फिर इससे ज्यादा हिस्से पर धान की जगह मक्का, कपास, बाजरा, दलहन, सब्जियां आदि की फसल उगाई जाती है।
  • तो इस स्थिति में किसान को 7000 रुपये प्रति एकड़ प्रोत्साहन राशि प्रदान की जाएगी।
  • यह राशि प्राप्त करने के लिए किसान को गत साल के धान के क्षेत्रफल में 50% या फिर 50% से ज्यादा फसल विविधीकरण करना होगा।
  • अगर किसान के माध्यम फसल विविधीकरण के लिए सिंचाई यंत्र खेत में लगाए जाते हैं।
  • तो इस स्थिति में किसान को कुल लागत का केवल जीएसटी ही देना होगा।
  • यदि किसान द्वारा फसल विविधीकरण के अंतर्गत फसल का बीमा कराया जाता है तो किसान के हिस्से की राशि का भुगतान सरकार के माध्यम से किया जाएगा।
  • मक्का बिजाई मशीन पर 40 फीसद का अनुदान विवरण किया जाएगा।
  • मंडियों में मक्का सुखाने के लिए मशीन की स्थापना की जाएगी।
  • जिससे कि किसानों को उचित मूल्य का भुगतान किया जा सके।
  • किसान के माध्यम इस योजना के अंतर्गत उगाई गई फसल पर सरकार द्वारा न्यूनतम समर्थन मूल्य पर खरीद की जाएगी।
  • सभी खंड जिनका भू जलस्तर 35 मीटर गहराई या फिर उससे ज्यादा है तथा पंचायत की भूमि पर धान के अतिरिक्त कम पानी का इस्तेमाल करने वाली फसलों को उगाया जाता है।
  • तो इस स्थिति में ग्राम पंचायत को 7000 रुपये प्रति एकड़ विवरण किए जाएंगे।
  • वह सभी किसान जिन्होंने फसल विविधीकरण के अंतर्गत धान को जगह फलदार पौधे एवं सब्जियों की खेती की है।
  • उनको 7000 रुपये प्रति एकड़ की दर से भुगतान किया जाएगा।
  • इसके अलावा उनको बागवानी विभाग द्वारा संचालित किए जाने वाली अन्य योजनाओं के प्रावधानों के अनुसार अनुदान राशि का भुगतान भी किया जाएगा।

Mera Pani Meri Virasat Yojana के मुख्य तथ्य

  • किसान को उन जगहों पर धान की खेती करने की अनुमति नहीं दी जाएगी जहां पर पिछले साल धान की खेती नहीं हुई थी।
  • वह ग्राम पंचायत जहां पर जल स्तर  35 मीटर गहरा है। वहां पर धान की खेती नहीं की जाएगी।
  • वह किसान जिनकी ट्यूबवेल 50 हॉर्स पावर इलेक्ट्रिक मोटर से चल रही है उनको धान की खेती करने की अनुमति नहीं दी जाएगी।
  • ड्रिप इरिगेशन सिस्टम खेत में लगाने पर 85 फीसद की सब्सिडी वितरण की जाएगी।
  • इस योजना की सफलता के लिए सरकार के माध्यम से व्यापक प्रचार प्रसार किया जाएगा।
  • मेरा पानी मेरी विरासत योजना के कार्यान्वयन के लिए एक पोर्टल का शुभारंभ किया जाएगा।

हरियाणा रोजगार मेला

Haryana Mera Pani Meri Fasal Yojana Objective (उद्देश्य)

दोस्तों हम आपको बता दें कि इस साल हरियाणा में ऐसी जगह है जहां पानी की किल्लत की वजह से धान की खेती नहीं की जा सकती है तथा किसानों से मुख्यमंत्री के माध्यम से अनुरोध किया गया है कि किसान वहां धान की खेती ना करें क्योंकि धान की खेती में बहुत ज्यादा पानी लगता है इसलिए हरियाणा सरकार वर्तमान सीजन में धान के स्थान पर अन्य वैकल्पिक फसलों की बुआई करने वाले किसानों को हरियाणा मेरा पानी मेरी विरासत योजना के तहत 7000

 रुपये प्रति एकड़ प्रोत्साहन धनराशि आर्थिक मदद के रूप में विवरण कर रही है हरियाणा राज्य के मुख्यमंत्री ने जल संरक्षण को बढ़ावा देने के लिए प्रदेश के किसानों से अपील की है यह योजना के द्वारा से किसानों को फसल विविधीकरण अपनाने के लिए प्रेरित किया गया है। तथा यही इस योजना का प्रमुख उद्देश्य है।

मेरा पानी मेरी विरासत योजना के लाभ और विशेषताएं

  • हरियाणा राज्य के जो किसान अन्य ब्लॉक से हैं तथा योजना के तहत नहीं आते और वह भी धान की खेती की बजाय अन्य वैकल्पिक खेती करना चाहते हैं।
  • तो वह भी इस योजना का आवेदन करके प्रोत्साहन राशि को प्राप्त कर सकते हैं।
  • यदि कोई किसान मक्का या अन्य वैकल्पिक खेती करते हैं तो उन्हें मशीनरी उपकरण या अन्य यंत्र हेतु 40 फीसद सब्सिडी विवरण की जाएगी।
  • ऑनलाइन द्वारा से योजना का आवेदन करने पर आवेदक के समय और पैसे दोनों की बचत होगी।
  • आवेदक अपने मोबाइल व कंप्यूटर के द्वारा से योजना का आवेदन कर लाभ प्राप्त कर सकते हैं।
  • किसान धान की खेती के बजाय मक्का, उड़द, कपास, तिल, अरहर, सब्जियां आदि उगा सकते हैं।
  • वैकल्पिक सब्जियों का उत्पादन करके इन्हें मार्केट प्राइस पर बेच सकते हैं।
  • मेरा पानी मेरी विरासत योजना के अंतर्गत आने वाली पीढ़ियों के लिए पानी को कंज़रव संरक्षण किया जाएगा।
  • लाभार्थी किसानों को प्रति एकड़ के अनुसार 7000 रुपये की सब्सिडी राशि विवरण की जाएगी।
  • राज्य के 19 ब्लॉकों को इस योजना में शामिल किया गया है।
  • Mera Pani Meri Virasat Yojana के तहत धनराशि प्राप्त करने के लिए किसानों को ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन करना होगा।
  • पानी को भविष्य हेतु सेव तथा सुरक्षित रखने के लिए योजना का शुभारंभ किया गया है।
Mera Pani Meri Virasat Yojana

मेरा पानी मेरी विरासत योजना पात्रता (Eligibility)

  • योजना का आवेदन करने के लिए आवेदक किसान हरियाणा राज्य के स्थाई निवासी होने अनिवार्य है।
  • आवेदक एक किसान होना चाहिए।
  • आवेदक के पास खुद का बैंक अकाउंट होना बहुत आवश्यक है जो आधार कार्ड से लिंक होना चाहिये है।
  • आवेदन करने के लिए आवेदक के पास सभी दस्तावेज होने अनिवार्य है।

Mera Pani Meri Virasat Yojana Important Documents (आवश्यक दस्तावेज)

  • आधार कार्ड
  • बैंक अकाउंट नंबर
  • पासपोर्ट साइज फोटो
  • जमीन से जुड़े कागजात
  • बैंक पासबुक
  • वोटर आईडी कार्ड
  • मूल निवास प्रमाण पत्र
  • रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर
  • पैन कार्ड

मेरा पानी मेरी विरासत योजना में आवेदन कैसे करें?

  • सबसे पहले आवेदक को योजना की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा।
  • आधिकारिक वेबसाइट पर जाने के बाद आपके सामने होम पेज खुल जाएगा।
मेरा पानी मेरी विरासत योजना में आवेदन करें
  • होम पेज पर आपको न्यू रजिस्ट्रेशन के विकल्प पर क्लिक करना होगा।
  • विकल्प पर क्लिक करने के पश्चात आपके सामने अगला पेज खुल जाएगा।
Mera Pani Meri Virasat Yojana Login Form
  • इसके पश्चात आपके सामने लॉगइन फॉर्म आ जाएगा।
  • आपको लॉगइन फॉर्म में अपना मोबाइल नंबर दर्ज करना होगा।
  • फिर कैप्चा कोड डालकर लॉगइन के बटन पर क्लिक करना होगा।
  • बटन पर क्लिक करने के पश्चात आपके सामने रजिस्ट्रेशन फॉर्म खुल जाएगा।
  • आपको रजिस्ट्रेशन फॉर्म में पूछी गई सभी जानकारी को दर्ज करना होगा।
  • सभी जानकारी दर्ज करने के बाद आपको सबमिट के बटन पर क्लिक करना होगा।
  • इस प्रकार से आपका पंजीकरण पूरा हो जाएगा।

बाढ़ प्रभावित क्षेत्र के लिए आवेदन कैसे करें?

  • सबसे पहले आवेदक को योजना की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा।
  • आधिकारिक वेबसाइट पर जाने के बाद आपके सामने होम पेज खुल जाएगा।
  • होम पेज पर आपको बाढ़ प्रभावित क्षेत्र का ऑप्शन दिखाई देगा।
  • आपको इस ऑप्शन पर क्लिक करना होगा।
  • ऑप्शन पर क्लिक करने का पश्चात आपके सामने अगला पेज खुल जाएगा।
Mera Pani Meri Virasat के अंतर्गत बाढ़ प्रभावित क्षेत्र के लिए आवेदन करें
  • इस पेज पर आपको फार्मर रजिस्ट्रेशन के लिए फॉर्म दिखाई देगा।
  • आपको इस फॉर्म में पूछी गई सभी जानकारी जैसे कि आधार नंबर, सामान्य विवरण, किसान का विवरण, टोटल लैंड होल्डिंग आदि दर्ज करनी होगी।
  • सभी जानकारी दर्ज करने के पश्चात आपको सबमिट के बटन पर क्लिक करना होगा।
  • सबमिट के बटन पर क्लिक करने के बाद आपका रजिस्ट्रेशन हो जाएगा।

Mera Pani Meri Virasat फसल विविधीकरण के लिए पंजीकरण करने की प्रक्रिया

  • सबसे पहले आपको मेरा पानी मेरी विरासत योजना की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा।
  • आधिकारिक वेबसाइट पर जाने के बाद होम पेज खुल जाएगा।
  • होम पेज पर आपको फसल विविधीकरण के लिए पंजीकरण करे के ऑप्शन पर क्लिक करना होगा।
  • अब आपके सामने एक नया पेज खुलकर आएगा।
  • इस पेज पर आपको अपना आधार नंबर दर्ज करना होगा।
  • अब आपको गेट ओटीपी के ऑप्शन पर क्लिक करना होगा।
  • इसके बाद आपको ओटीपी को ओटीपी बॉक्स में दर्ज करना होगा।
  • अब आपको सबमिट के ऑप्शन पर क्लिक करना होगा।
  • इसके बाद आपको फॉर्मर डिटेल, टोटल लैंड होल्डिंग डिटेल तथा क्रॉप डिटेल दर्ज करनी होगी।
  • अब आपको सबमिट के बटन पर क्लिक करना होगा।
  • इस प्रकार से आप फसल विविधीकरण के लिए पंजीकरण कर सकते हैं।

रिचार्ज शाफ्ट के लिए आवेदन करने की प्रक्रिया

  • सबसे पहले आपको मेरा पानी मेरी विरासत योजना की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा।
  • आधिकारिक वेबसाइट पर जाने के बाद होम पेज खुल जाएगा।
  • इसके बाद आपको रिचार्ज शाफ्ट के लिए आवेदन करें के ऑप्शन पर क्लिक करना होगा।
  • अब आपके सामने एक नया पेज खुल कर आएगा।
  • इस पेज पर आपको रिचार्ज शाफ्ट के निर्माण के प्रकार, आधार नंबर, किसान का नाम, पिता का नाम, मोबाइल नंबर, जिला खंड, क्रॉप नेम, मुरादा नेम, किल्ला नंबर, जिला, ब्लॉक, तहसील, ग्राम, क्रॉप लिस्ट, कैप्चा कोड आदि दर्ज करना होगा।
  • इसके बाद आपको सेव के ऑप्शन पर क्लिक करना होगा।
  • इस प्रकार से आप रिचार्ज शाफ्ट के लिए आवेदन कर सकते हैं।

Mera Pani Meri Virasat के अंतर्गत विभागीय लोगिन करने की प्रक्रिया

  • सबसे पहले आपको मेरा पानी मेरी विरासत योजना की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा।
  • आधिकारिक वेबसाइट पर जाने के बाद होम पेज खुल जाएगा।
  • इसके बाद आपको विभागीय प्रवेश के ऑप्शन पर क्लिक करना होगा।
मेरा पानी मेरी विरासत योजना के अंतर्गत विभागीय लोगिन करने की प्रक्रिया
  • अब आपके सामने एक नया पेज खुलकर आएगा।
  • इस पेज पर आपको अपना यूजर नेम, पासवर्ड तथा कैप्चा कोड दर्ज करना होगा।
  • अब आपको लॉगिन के ऑप्शन पर क्लिक करना होगा।
  • इस प्रकार से आप विभागीय लॉगिन कर सकते हैं।

Leave a Comment